WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.27 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.29 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.30 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.31 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
IMG-20220819-WA0003
IMG-20220830-WA0000
महराजगंज

मनरेगा रोजगार सेवकों के लिए बना खिलौना

महाराजगंज: जिले के मिठौरा ब्लाक के अंतर्गत नंदाभार ग्राम सभा में देखने को मिला नंदाभार में कब्रिस्तान के पास के पोखरी का सुंदरीकरण कराया जा रहा है जिसका मस्टरोल दिनांक 28.05. 2022 से चालू है हमारे रिपोर्टर उस कार्यस्थल पर पहुंचे तो वहां कार्य नहीं हो रहा था लेकिन मस्टररोल के हिसाब से कार्य होना चाहिए था लेकिन आश्चर्य की बात यह है रोजगार सेवक से पूछने पर रोजगार सेवक का कहना है की 1 मई के बाद भी मॉनिटरिंग सिस्टम से जियो टैग करते आए हैं उनके हिसाब से मई में भी कार्य चला है और वही उस पोखरी पर जो मजदूर कार्य किए हैं वह कह रहे हैं कि कार्य आज दिनांक से एक हफ्ता पहले खत्म हो चुका है यह बात वीडियो फुटेज में आप उनके मुंह से सुन सकते हैं और वही पोखरे के बगल में घर के लोग से पूछने पर यह मालूम हुआ कि कि यह कार्य 31 मई के अंदर ही समाप्त हो गया था लेकिन सोचने की बात यह है जब कार्य 31 मई के अंदर जब कार्य खत्म हो गया था तब रोजगार सेवक द्वारा मॉनिटरिंग सिस्टम से कैसे जियो टैग किया जा रहा है आखिर कौन सा तरीका है जिससे रोजगार सेवक फर्जी कार्य प्रधान से मिलकर करा रहे हैं अब इस कार्य को रोकने के लिए अधिकारी कौन सा कदम उठाएंगे और रोजगार सेवकों पर कैसे नियंत्रण लगाएंगे कि सरकार के धन का दुरुपयोग ना हो और उनके ऊपर कौन सा कार्यवाही करते हैं

Related Articles

देश

मनरेगा रोजगार सेवकों के लिए बना खिलौना

महाराजगंज: जिले के मिठौरा ब्लाक के अंतर्गत नंदाभार ग्राम सभा में देखने को मिला नंदाभार में कब्रिस्तान के पास के पोखरी का सुंदरीकरण कराया जा रहा है जिसका मस्टरोल दिनांक 28.05. 2022 से चालू है हमारे रिपोर्टर उस कार्यस्थल पर पहुंचे तो वहां कार्य नहीं हो रहा था लेकिन मस्टररोल के हिसाब से कार्य होना चाहिए था लेकिन आश्चर्य की बात यह है रोजगार सेवक से पूछने पर रोजगार सेवक का कहना है की 1 मई के बाद भी मॉनिटरिंग सिस्टम से जियो टैग करते आए हैं उनके हिसाब से मई में भी कार्य चला है और वही उस पोखरी पर जो मजदूर कार्य किए हैं वह कह रहे हैं कि कार्य आज दिनांक से एक हफ्ता पहले खत्म हो चुका है यह बात वीडियो फुटेज में आप उनके मुंह से सुन सकते हैं और वही पोखरे के बगल में घर के लोग से पूछने पर यह मालूम हुआ कि कि यह कार्य 31 मई के अंदर ही समाप्त हो गया था लेकिन सोचने की बात यह है जब कार्य 31 मई के अंदर जब कार्य खत्म हो गया था तब रोजगार सेवक द्वारा मॉनिटरिंग सिस्टम से कैसे जियो टैग किया जा रहा है आखिर कौन सा तरीका है जिससे रोजगार सेवक फर्जी कार्य प्रधान से मिलकर करा रहे हैं अब इस कार्य को रोकने के लिए अधिकारी कौन सा कदम उठाएंगे और रोजगार सेवकों पर कैसे नियंत्रण लगाएंगे कि सरकार के धन का दुरुपयोग ना हो और उनके ऊपर कौन सा कार्यवाही करते हैं

Related Articles

Back to top button