WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.27 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.29 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.30 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.31 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
IMG-20220819-WA0003
IMG-20220830-WA0000
धार्मिकमहराजगंज

हजारों वर्ष पहले से स्थापित है आदिशक्ति मां लक्ष्मीपुर देऊरवां वाली का मंदिर

प्राचीन काल से लक्ष्मीपुर देऊरवां मे जो आदिशक्ति मां दुर्गा जी का जो मंदिर दिखाई देता है और पूर्वजों का कहना है कि माता जी की मुर्ति स्थापित नहीं हूई हैऔर वो वहां पहले से बाश करती थी और क्षेत्र के लोगों का कहना है कि यहाँ के तिवारी वंशज की पुज्यमान थी और ईस क्षेत्र की रक्षा भी करती आ रही हैं
एक समय की बात है गांव में चोर चोरी करने आये थेतो माता जी सबको जगायी और बोलीं की तुम्हारे घर मे चोर चोरी करने आये हैं तो सभी लोगों ने जागा तो देखा कि ये तो साक्षात माता जी ही आयीं है और सबको देखकर चोर भागने लगे और नाराज होकर माता जी के मंदिर पर जाकर दो मुर्ति का सर काटकर ले जाने लगे एक चोर दक्षिण की तरफ गया और दूसरा पूरव की ओर गया और कुछ ही दूरी पर अंधा होकर गिरा और वहीं पर मर गया और माता जी का वहीं पर भूअरी माई के नाम से जाना जाने लगाऔर पुजा अर्चना भी होने लगा

YouTube player


वहीं दूसरा चोर जो दक्षिण की तरफ लगभग सात कीमी की दूरी पर जाकर गिरा और वहीं पर ओ भी मर गया और वहां पर भी माता जी का बास हो गया और वहाँ आंध्यां माई के नाम से प्रचलित हो गईं और लक्ष्मी पुर देऊरवां में हमेशा चमत्कार ही होत रहता है क्योंकि वहाँ के तिवारी वंशज मे एक ऐहे सदस्य रहा करते थे कि जो नहाने के बाद अपना धोती धोकर अपने हाथ से आकाश की तरफ करते थे तो उनकी धोती आकाश में चली जाती थी और जब ऊनके स्नान करने का समय हो जाता था तो वो अपने हाथ को फैलाते थे और उनकी धोती उनके हाथ मे आ जाता था उसी समय जब चारो तरफ सोर होने लगा तो मुगल शासक को सुनाई दिया और ओ वहाँ से अपने दलबल के साथ चल पड़ा और जब लक्ष्मीपुर देऊरवां माता जी के मंदिर में पहुंचा तो वहां के पुजारी से पुछा की यहां पर क्या क्या चढ़ाया जाता है जबकी ऐसी कोई बात नहीं थी लेकिन पुजारी जी ने डर कर बोले कि यहाँ पर दुध और काला खशी चढ़ाया जाता है उसके बाद वहां से वापस चला गया
माता जी के मंदिर के ठिक पूरब आज भी वो प्राचीन काल से ही एक पोखरा भी है और मंदिर के ठीक दक्षिण दिशा में एक राजा रहा करते थेजो सतासी के राजा के नाम से जाने जाते थे जो आज भी वहां ऊनकी एक पहचान के रूप मे कोटि स्थित है
और माता देऊरवां वाली के दरबार में जो भी अपनी मिन्नतें मांगता है उसकी हर मिन्नतें पूरी होती है और दिश प्रतिदिन वहां पूजा अर्चना बढ़ती जा रही है वहां के लोगों का कहना है कि अभी हाल ही में करीब चार पांच महिने पूर्व क्षेत्र के लोगों ने अपनी आँखों से देखा है माता जी का चमत्कार

जयप्रकाश वर्मा
ब्लाक प्रभारी दैनिक महराजगंज पब्लिक न्यूज़

जयप्रकाश वर्मा

प्रदेश प्रभारी-उत्तर प्रदेश 9415783188

Related Articles

Back to top button