WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.27 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.29 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.30 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.31 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
IMG-20220819-WA0003
IMG-20220830-WA0000
महाराष्ट्र

50 साल की महिला हुई जिका वायरस से संक्रमित

मुंबई : महाराष्ट्र के पुणे शहर में जिका वायरस से संक्रमित पाई गई एक 50 वर्ष की महिला वह पहले से चिकनगुनिया से पीड़ित थी।.
मेडिकल टीम ने उसके गांव का दौरा किया.तो एक महिला जिका वायरस से पीड़ित पायी गई है
.स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने बताया पुरंदर तहसील के बेलसर गांव में रहने वाली 50 साल की एक महिला की टेस्ट रिपोर्ट सामने आई थी. रिपोर्ट के मुताबिक, वह जीका संक्रमण के अलावा चिकनगुनिया से भी पीड़ित थी.
जीका वायरस का केस (Zika Virus Case) मिलने के बाद एक सरकारी मेडिकल टीम ने शनिवार को बेलसर गांव का दौरा किया. उन्होंने सरपंच और ग्राम पंचायत सदस्यों से मुलाकात करके उन्हें रोकथाम के उपायों के बारे में निर्देश दिए.
जानकारी देते हुए अधिकारियों ने कहा कि लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है. राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि संक्रमित पाई गई महिला मरीज पूरी तरह से ठीक हो गई है. उसमें और उसके परिवार के सदस्यों में कोई लक्षण नहीं हैं.
कारण और ज़िका के बारे में जानकारी

ज़िका वायरस भी वही मच्छर की प्रजाति से फैलता है जिससे डेंगू भी फैलता है, यानी एडीस मच्छर। ज़िका वायरस सलाइवा और सीमेन जैसे शरीर के तरल पदार्थ के आदान-प्रदान से संक्रामक हो सकता है। यह मनुष्यों के खून में भी पाया जा सकता है।रक्तदान के 14 दिनों के भीतर अगर व्यक्ति को ज़िका वायरस संक्रमण के साथ निदान किया गया है, तो रक्त दान नहीं करना उचित है।

आप को बता दें कि क्या है इसका लक्षण

ज़िका वायरस के लक्षण डेंगू के समान हैं। किसी व्यक्ति को संक्रमित मच्छर से काटे जाने के बाद थोड़ा बुखार और चकत्ते दिखाई दिए जा सकते है। कॉंजक्टिवेटाइटिस, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, और थकावट कुछ अन्य लक्षण हैं जिन्हें महसूस किया जा सकता है। लक्षण आमतौर पर 2 से 7 दिनों तक चलते हैं।
सामान्य दर्द और बुखार दवाओं से ज़िका वायरस का इलाज किया जा सकता है। जब किसी व्यक्ति को ज़िका संक्रमण से निदान किया गया है तो आराम और भरपूर पानी के सेवन की सलाह दी जाती है। चूंकि ज़िका मच्छरों से फैलती है, उनसे बचने का मतलब है ज़िका से बचना। अपने घर में काला हिट जैसे मच्छर स्प्रे को छिड़कना बेहद सहायक हो सकता है।

अशोक कुमार प्रजापति
संवाददाता दैनिक महराजगंज न्यूज मुंबई (महाराष्ट्र)

Related Articles

Back to top button