WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.27 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.29 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.30 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.31 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
IMG-20220819-WA0003
IMG-20220830-WA0000
महराजगंज

एक्शनएड ने सीड वॉल रोपड़ कर मनाया विश्व पर्यावरण दिवस

दैनिक महाराजगंज न्यूज़/ महाराजगंज पब्लिक न्यूज़ बेद प्रकाश दुबे प्रदेश विज्ञापन प्रभारी

एक्शनएड के उपेन्द्र शुक्ला ने ग्रामसभा कलनही निचलौल मे लोगों को पर्यावरण के प्रति जागरूक करते हुए बताया कि पर्यावरण जलवायु स्वच्छता प्रदूषण तथा वृक्ष का सभी को मिलाकर बनता है और ये सभी चीजें यानी कि पर्यावरण हमारे दैनिक जीवन से सीधा संबंध रखता है और उसे प्रभावित करता है मानव और पर्यावरण एक-दूसरे पर निर्भर होते हैं पर्यावरण जैसे जलवायु प्रदूषण या वृक्षों का कम होना मानव शरीर और स्वास्थय पर सीधा असर डालता है मानव की अच्छी-बूरी आदतें जैसे वृक्षों को सहेजना जलवायु प्रदूषण रोकना स्वच्छाता रखना भी पर्यावरण को प्रभावित करती है मानव की बूरी आदतें जैसे पानी दूषित करना बर्बाद करना वृक्षों की अत्यधिक मात्रा में कटाई करना आदि पर्यावरण को बूरी तरह से प्रभावित करती है जिसका नतीजा बाद में मानव को प्राकर्तिक आपदाओं का सामना करके भुगतना ही पड़ता है पर्यावरण के जैविक संघटकों में सूक्ष्म जीवाणु से लेकर कीड़े-मकोड़े सभी जीव-जंतु और पेड़-पौधों के अलावा उनसे जुड़ी सारी जैव क्रियाएं और प्रक्रियाएं भी शामिल हैं जबकि पर्यावरण के अजैविक संघटकों में निर्जीव तत्व और उनसे जुड़ी प्रक्रियाएं आती हैं जैसे: पर्वत चट्टानें नदी हवा और जलवायु के तत्व इत्यादि सामान्य अर्थों में यह हमारे जीवन को प्रभावित करने वाले सभी जैविक और अजैविक तत्वों तथ्यों प्रक्रियाओं और घटनाओं से मिलकर बनी इकाई है। यह हमारे चारों ओर व्याप्त है और हमारे जीवन की प्रत्येक घटना इसी पर निर्भर करती और संपादित होती हैं। मनुष्यों द्वारा की जाने वाली समस्त क्रियाएं पर्यावरण को प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करती हैं। इस प्रकार किसी जीव और पर्यावरण के बीच का संबंध भी होता है जो कि अन्योन्याश्रि‍त है। मानव हस्तक्षेप के आधार पर पर्यावरण को दो भागों में बांटा जा सकता है जिसमें पहला है प्राकृतिक या नैसर्गिक पर्यावरण और मानव निर्मित पर्यावरण यह विभाजन प्राकृतिक प्रक्रियाओं और दशाओं में मानव हस्तक्षेप की मात्रा की अधिकता और न्यूनता के अनुसार है। पर्यावरणीय समस्याएं जैसे प्रदूषण जलवायु परिवर्तन इत्यादि मनुष्य को अपनी जीवनशैली के बारे में पुनर्विचार के लिये प्रेरित कर रही हैं और अब पर्यावरण संरक्षण और पर्यावरण प्रबंधन की आवश्यकता महत्वपूर्ण है आज हमें सबसे ज्यादा जरूरत है पर्यावरण संकट के मुद्दे पर हम सभी को जागरूक होने की। बैठक के बाद सीड वालों का रोपण भी किया गया जिसमें गिरजा देवी तारामती देवी गुड़िया देवी पुष्पा देवी संगीता देवी मालती देवी कुमारी देवी मंदोदरी देवी प्रभावती देवी परशुराम रघुनी मदन आदि उपस्थित रहे।

वेद प्रकाश दुबे

वेद प्रकाश दुबे प्रदेश विज्ञापन प्रभारी (लखनऊ) 7380436987

Related Articles

Back to top button