लखनऊ

सूबे की सरकार किसानों को समृद्धि जैविक खेती के सिखायेंगे गुण : कृषि विशेषज्ञ

उत्तर प्रदेश : सूबे की योगी सरकार अब न्यूतनम समर्थन मूल्य बढ़ाने और बकाया गन्ना मूल्य के भुगतान के बाद अब सरकार किसानों की पाठशाला लगाने की तैयारी कर रही है. 14 सितंबर से लखनऊ समेत सूबे के सभी जिलों की न्यायपंचायतों में चलने वाली इस अनोखी पाठशाला में कृषि विशेषज्ञ शिक्षक और किसान विद्यार्थी के रूप में नजर आएंगे. द मिलियन फार्मर्स स्कूल के नाम से कोरोना संक्रमण के बाद एक बार फिर पाठशालाओं का संचालन होगा. न्याय पंचायत स्तर पर चलने वाली 52 हजार पाठशालाओं में एक करोड़ से अधिक किसानों को उन्नतशील खेती के गुण सिखाए जाएंगे।
कृषि विशेषज्ञों की टीम हर न्याय पंचायत में जाकर किसानों को समृद्धि सबक देगी. पहले फेज की शुरुआत 14 सितंबर से हो रही है. 2 दिन चलने के बाद दूसरा फेज 20 सितंबर से शुरू होगा।
तेज धूप, बारिश और जाड़े में खेतों में हाड़ तोड़ मेहनत करने वाले किसानों को उतना लाभ नहीं मिल पाता जितना उन्हें मिलना चाहिए।
कृषि विभाग खाद्यान्न उत्पादन बढ़ाने के साथ ही गेहूं, धान, दलहन व तिलहन जैसी परंपरागत खेती के साथ ही पशुपालन, मुर्गी पालन, मछली पालन, मधुमक्खी पालन करने के प्रति किसानों को जागरूक करता है।
सरकार की ओर से किसानों की आय दो गुनी करने के लक्ष्य के सापेक्ष ऐसी एकीकृत पाठशाला चलाने का निर्णय लिया गया। लखनऊ 97 न्याय पंचायतों के साथ ही सूबे की 52 हजार न्याय पंचायतों में पाठशाला संचालित होगी इसके समुचित संचालन की जिम्मेदारी जिला प्रशासन की होगी।

जयप्रकाश वर्मा
प्रभारी दैनिक महराजगंज न्यूज

Share this:

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!