गोरखपुर

गोरखपुर में मनीष गुप्ता के बाद एक और मनीष प्रजापति की हत्या,

गोरखपुर
अभी कानपुर के व्यापारी मनीष की हत्या का मामला शांत भी नहीं हुआ था कि गोरखपुर के उसी थाना क्षेत्र में एक और युवक की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई। जिस व्यक्ति की हत्या की गई है, इत्तेफाक से उसका भी नाम मनीष ही है। रामगढ़ताल इलाके में गुरुवार की रात हिस्ट्रीशीटर के भाई और उसके साथियों ने फ्री में शराब न पिलाने पर मॉडल शॉप कैंटीन कर्मचारी को पीट-पीट कर मारडाला। कर्मचारी को छुड़ाने गए उसके साथी को भी बुरी तरह से घायल कर दिया। मनबढ़ों के हमले से कोई काउंटर तो कोई मेज के नीचे छिप गया। हमलावरों के फरार होने पर घायल दोनों कर्मचारियों को इलाज के लिए पास के हास्पिटल में ले जाया गया है। हालत गंभीर देखकर डॉक्टरों ने मेडिकल कालेज रेफर कर दिया। रास्ते में ही मनीष प्रजापति नामक कर्मचारी की मौत हो गई। वहीं रघु नामक कर्मचारी का इलाज चल रहा है। सरेआम हुई गुंडागर्दी के आरोपितों की पुलिस ने तलाश शुरू कर दी है। पिटाई करने वाले आरोपितों की तस्वीर भी सीसी टीवी में कैद हो गई है।

महराजगंज के रहने वाले नागेन्द्र प्रताप सिंह का रामगढ़ताल थाना क्षेत्र में वरदायनी के पास मॉडल शॉप है। उनका बेटा मनीष सिंह इसका संचालन करते हैं। मध्य प्रदेश के रिवा जिला के पनगढ़ी निवसी श्रवण प्रजापति का 23 साल का बेटा मनीष प्रजापति मॉडल शॉप पर कैंटीन कर्मचारी के रूप में काम करता था। आरोप है कि कोतवाली इलाके का हिस्ट्रीशीटर अपने साथियों के साथ पहुंचा है। ऑडर लेने आए कर्मचारी से उन्होंने शराब लाने के लिए कहा है। कैंटीन कर्मचारी ने पैसा मांगा।
बताया कि बिना पैसे का शराब नहीं मिलेगा। इससे नाराज होकर एक युवक ने हिस्ट्रीशीटर का नाम लेकर कहा है इन्हें जानते नहीं है। बात बढ़ने के बाद आरोपित बवाल करने लगे। कर्मचारी छिपने के लिए मॉडल के अंदर चला गया तो मनबढ़ों ने मॉडल शॉप में अंदर घुसकर कर्मचारी मनीष प्रजापति को हॉकी और डंडा से पीटना शुरू कर दिया। बचाने गए उसके साथी बहराइच के हुजूरपुर थाना क्षेत्र स्थित पातोपुर निवासी रघु की भी मनबढ़ों ने पिटाई कर दी। वहीं अन्य वेटर व कर्मचारी जान बचाकर भागने लगे।

उनके आतंक से मॉडल शॉप में काम करने वाले अन्य वेटर या कर्मचारी उन्हें बचाने की हिम्मत नहीं जुटा पाए। पिटाई कर वह आराम से चले गए। दोनों घायलों को पास के एक हास्पिटल में ले जाया गया जहां हालत गंभीर होने पर मेडिकल कालेज रेफर कर दिया गया। मेडिकल कालेज ले जाने में मनीष प्रजापति की मौत हो गई। जबकि रघु का इलाज चल रहा है। उधर, आरोपितों की तलाश में पुलिस टीम जुट गई है। पूरी घटना सीसी टीवी में कैद है। उधर, सूचना के बाद मौके पर एडीजी अखिल कुमार और डीआईजी जे रवीन्द्र गौड़ तथा कैंट और रामगढ़ ताल पुलिस पहुंची गई है।मृतक के पिता एवं भाई कहना है कि वह लोग मृत शरीर को लेकर मध्य प्रदेश गॉव जा रहे हैं। उन्होंनें यह भी बताया कि पुलिस की तरफ से ना तो कोई एफ0आई0आर0 की कॉपी उपलब्ध करायी गयी है। ना ही पोस्टमार्टम रिपोर्ट उपलब्ध करायी गयी है और ना ही कोई आर्थिक सहायता सरकार की तरफ से मिली है। साथ ही पुलिस ने जिन लोगों को गिरफ्तार किया है उन लोगों को पीड़ित परिवार को देखकर पहचान भी नहीं करने दी जा रही है। उ0प्र0 सरकार का यह अन्याय कब तक।

Share this:

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!