लखनऊ

पिछड़ा वर्ग सम्मेलन में बोले सीएम योगी आदित्यनाथ….

स्व.बाबूजी कल्याण सिंह जी के अंतिम संस्कार ब्रह्मभोज में मुझे जाने का अवसर मिला, लोकनेता कैसा होता है तो ये बाबूजी के लिए उमड़े जनसैलाब से पता चलता है..
उन्होंने अपना पूरा सार्वजनिक जीवन देश और धर्म के समर्पित कर दिया
वीरांगना अवंतीबाई जी की भी चर्चा होती है,कल 9 मेडिकल कॉलेज में से एक उनके नाम पर भी हुआ, ये राजू भइया के कहने पर ही हुआ,एटा में कोई मेडिकल कॉलेज कोई सोच नही सकता था, ये बाबूजी का सपना था।
हमने प्रदेश में 3 पीएसी महिला बटालियन में से एक बदायूं की महिला पीएसी बटालियन का नाम अवंतीबाई के ही नाम पर हुआ ।
कल्याण सिंह जी अपने परिवार के लिए नही देश और धर्म के लिए जिये थे,उनके नाम पर कैंसर अस्प्ताल का नामकरण हुआ।
बुलंदशहर के मेडिकल कॉलेज का नाम भी कल्याण सिंह जी के नाम पर किया जाएगा ।
देश धर्म के लिए जीने वालों के लिए यही कृतज्ञता ज्ञापित करने का अवसर होता है ।
दलीय मानसिकता से ऊपर हम काम करते है,लेकिन जब कोई आपराधिक प्रवित्ति के लोग काम करते हैं तो वो सामाजिक तानेबाने को छिन्न भिन्न करते हैं।
यही होता था 2017 के पहले,बहन बेटियों,किसान नौजवान सब तबाह थे ।
2017 में जब हमें प्रदेश की व्यवस्था मिली तो हमे एक जर्जर प्रदेश मिला था ,उत्तर प्रदेश मोदी जी के नेतृत्व में आगे बढ़ता गया।
ये सुविधाओं को पहले भी दिया जा सकता है,जब किसी पार्टी की छवि का आंकलन करना हो तो संकट के समय किया जाता है…कोरोना महामारी में या तो स्वयंसेवक संघ काम कर रहा था या फिर प्रदेश सरकार या भाजपा का कार्यकर्ता कर रहा था, बाकी सब आइसोलेशन में चले गए थे।
प्रदेश में कांग्रेस ,सपा,बसपा को भी काम करने का अवसर मिला थीक दिल्ली वाले हैं उन्होंने यूपी बिहार वालों को भगा दिया था…आज सब फ्री दे रहे हैं,आज जब उन्हें लगा कि राम के बना नैया नही पार होगी तो आज वो राम के लिए दर्शन करने अयोध्या आ रहे हैं।
समाजवादी पार्टी और बसपा से पूछा जाना चाहिए कि उन्होंने अपने कालखंड में क्या किया, आज अलीगढ़ में डिफेंस कॉरिडोर बन रहा है,बाबूजी ने अलीगढ़ के तालों के लिए उद्योग के लिए काम किये।
आज हर जिले के लिए काम हो रहा है,मेरठ के स्पोर्ट्स आइटम,हाथरस की हींग सबके लिए काम हो रहे हैं।
कानून व्यवस्था की स्थिति बेहतर हुई,निवेश आया,नौजवान की नौकरी लग रही है,पहले नौकरी सिर्फ एक परिवार के लिए था।
पहले जाति मजहब धर्म देखकर आवास मिलता था,आज 2 करोड़ 61 लाख एक शौचालय दिया जा चुका है।
गांव में सामुदायिक शौचालय मिल रहा है,निशुल्क बिजली कोरोना में फ्री राशन सब कुछ मिल रहा है।
आज पूरे देश को परिवार मानकर प्रधानमंत्री काम कर रहे हैं ।
पहले होड़ लगता था कि कौन कितने इफ्तार पार्टी दे सकता है।
आस्था को कैद कर लिया जाता था
आज आस्था के आगे कोरोना भी पस्त हो गया ।
हमे देखना होगा पहले के लोग किस मानसिकता के साथ काम करते थे।
सपा का विज्ञापन चल रहा है 2022 में “मैं आ रहा हूँ” इसका का मतलब अपहरण, गुंडागर्दी अराजकता है।
सपा की सरकार बनने पर पहला काम हुआ रामजन्मभूमि पर आतंकी हमले करने वालो का मुकदमा वापस हुआ,फिर कोसीकलां का दंगा हुआ।
इनके सबके चरित्र को समझने की जरूरत है।
आप सबको दीपावली की शुभकामनाएं देते हुए बाबूजी को स्मरण करता हूँ।

मुकुट किशोर शुक्ला
ब्यूरो चीफ
दैनिक महाराज गंज न्यूज
लखनऊ

Share this:

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!