देश

हिंदुत्व की जान इतिहास के लिए यादगार बाला साहब ठाकरे की पुण्यतिथि आज

आज 17 नवंबर 2021 को महाराष्ट्र के सबसे बड़े राजनेताओं और प्रभावशाली शख्सियतों में से एक, बाल ठाकरे या जैसा कि वह लोकप्रिय थे, बालासाहेब ठाकरे की नौवीं पुण्यतिथि है। 2012 में इसी दिन महाराष्ट्र के सबसे बड़े नेताओं में से एक बालासाहेब ठाकरे ने आठ दशकों से अधिक समय तक एक लंबा, घटनापूर्ण और प्रभावशाली जीवन जीने के बाद अंतिम सांस ली थी।

बाला साहेब को उनके निरन्तर खराब हो रहे स्वास्थ्य के चलते साँस लेने में कठिनाई के कारण 25जुलाई 2012 को मुम्बई के लीलावती अस्पताल में भर्ती किया गया।
14नवम्बर 2012को जारी बुलेटिन के अनुसार जब उन्होंने खाना पीना भी त्याग दिया तो उन्हें अस्पताल से छुट्टी दिलाकर उनके निवास पर ले आया गया और घर पर ही सारी चिकित्सकीय सुविधायें जुटाकर केवल प्राणवायु (ऑक्सीजन) के सहारे जिन्दा रखने का प्रयास किया गया।
उनके चिन्ताजनक स्वास्थ्य की खबर मिलते ही उनके समर्थकों व प्रियजनों ने उनके मातोश्री आवास पर, जहाँ अन्तिम समय में उन्हें चिकित्सकों की देखरेख में रखा गया था, पहुँचना प्रारम्भ कर दिया।
तमाम प्रयासों, दवाओं व दुआओं के बावजूद उन्हें बचाया नहीं जा सका और अखिरकार उनकी आत्मा ने 17 नवम्बर 2012 को शरीर त्याग दिया। चिकित्सकों के अनुसार उनकी मृत्यु हृदय-गति के बन्द हो जाने से हुई। जिस दिन बाला साहेब का निधन हुआ उस दिन मुम्बई और पूरा महाराष्ट्र उनकी शोक में डूब गया और मुम्बई की पूरी सड़के और गलियां सुनी पड़ गईं।

भारत के प्रधानमन्त्री डॉ॰ मनमोहन सिंह ने उनकी मृत्यु पर भेजे शोक-सन्देश में कहा – “महाराष्ट्र की राजनीति में बाला साहेब ठाकरे का योगदान अतुलनीय था। उसे भुलाया नहीं जा सकता।” लोक सभा में प्रतिपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने भी उनके निधन पर गहरा दुख प्रकट किया।
शिवाजी मैदान पर पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनकी अंत्येष्टि की गयी।
इस अवसर पर लालकृष्ण आडवानी, सुषमा स्वराज, अरुण जेटली, नितिन गडकरी, मेनका गांधी, प्रफुल्ल पटेल और शरद पवार के अतिरिक्त अमिताभ बच्चन, अनिल अंबानी भी मौजूद थे।

Share this:

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!