दैनिक महाराजगंज न्यूज़ पोर्टल आप सभी देशवाशियो से निवेदन करता है , कोरोना महामारी से बचने के लिए सोशल डिस्टेंस बनाये रखे और लॉकडाउन का पालन करें !
दैनिक महाराजगंज

मनोकांक्षा पूर्ण कर अष्ट सिद्धि प्रदान करती माता चण्डी देवी

समरधीरा-महराजगंज – पुरंदरपुर थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत भगवानपुर टोला बनकटवा के समीप शक्ति पीठ की भूमि कहे जाने वाले धर्मनगरी चन्निपुर में मां दुर्गा का मंदिर हैं। यह प्रख्यात मां चण्डी देवी का मंदिर है। वैसे तो यहां साल भर भक्तों का तांता लगा रहता है। मगर मान्यता है। की नवरात्रों के दौरान जो भक्त माता के इस दरबार में सच्चे मन से प्रार्थना करता है। मां उसकी हर मन्नत पूरी करती है। 
यह है, धार्मिक मान्यता सूत्रों के अनुसार किसी जमाने मे एक राजा मंदिर के रास्ते रोज शिकार खेलने जाया करता था। माता चण्डी देवी (बृद्ध अवस्था) बुढ़िया के रूप में राजा से मिली उसे जीव हत्या से माना किया। लेकिन राजा नही मानता था। ऐसा बार बार हुआ। लेकिन जब जब माता जी ने राजा को मना किया। तब तब राजा को खाली हाथ घर लौटना पड़ा। ऐसा बार बार होने से राजा बहुत दुखी था। फिर एक दिन जब राजा शिकार पर जा रहा था। तभी माता चण्डी देवी बुढ़िया रूप में माना करने के लिये फिर सामने आयी। तभी राजा को बहुत गुस्सा आया। राजा ने अपना तीर कमान उठाया और माता चण्डी देवी पर चला दिया। तभी से खण्डित मूर्ति में माता चण्डी देवी विद्यमान है। दूसरी तरफ जब राजा तीर कमान मारकर आगे बढ़ा मूर्ति के स्थान से बड़ी मधु मख्खियां जिसे सरंगवा मधु कहते है। निकलने लगी राजा यह सब देख वहा से भागने लगा। भागते भागते वह सरगनापुर जो गाँव भगवानपुर में पड़ता है, घोड़े सहित राजा को सरगनापुर तक आते आते मार डाली। सरगनापुर चिराग विहीन गांव भगवानपुर गांव में पड़ता है।तब से खण्डित मूर्ति माता चण्डी देवी की पूजा होती रही है।वर्तमान पुजारी शैलेस कुमार उपाध्याय 6 महीने खाली पानी पी कर रहे। अनाज उन्हें हजम ही नही होता था। तब किसी ने मार्गदर्शन कराया। कि चण्डी देवी माता का मूर्ति स्थापना करवाए।

मां चंडीदेवी लोक कल्याण न्यास ने कराया धर्मशाला और यज्ञ मंडप का निर्माण

‌मां चंडी देवी मंदिर के न्यास के सचिव महेंद्र यादव के मुताबिक न्यास-मां चण्डी देवी लोक कल्याण, अध्यक्ष रामनाथ यादव, सचिव महेंद्र कुमार यादव, सदस्य अवध बिहरी यादव, जगजीवन यादव, रामउग्रह चौहान सुरेंद्र जायसवाल, हरिद्वार यादव, पारस नाथ यादव, रामानंद साहनी ग्राम भगवानपुर पो- बसन्तपुर जिला, महराजगंज नवरात्रों में यहां प्रांत के विभिन्न कोनों से भक्त पहुंचते हैं। मां भक्तों की मनोकामना पूरी करती है। इक्कीसवीं शताब्दी में मां चंडी देवी का स्थापना मुख्य पुजारी पंडित शैलेस कुमार उपाध्याय के द्वारा सन 2006 मेे कराया गया। तब से ही माता यहां पर विराजमान हो कर अपने भक्तों का कल्याण कर रही है। और इस मंदिर के महत्व को देखते हुए नवरात्रों में यहां प्रांत के विभिन्न जगहों से भक्त श्रद्धाभाव के साथ पहुंचते हैं। तब से पूजा आरती अनारावत जारी हैं। लोग अपनी आस्था के अनुसार कथा कीर्तन करते हैं

महराजगंज के प्रमुख तीर्थ में से एक 

मां चण्डी देवी लोक कल्याण न्यास के सचिव महेंद्र यादव के अनुसार मां चंडी देवी मंदिर अनादि काल से है। मां चंडी देवी मंदिर में मां की आराधना भक्तों को अकाल मृत्यु, रोग नाश, शत्रु भय आदि कष्टों से मुक्ति प्रदान करने वाली और प्रत्येक प्रकार की मनोकांक्षा पूर्ण कर अष्ट सिद्धि प्रदान करने वाली है। 

ऐसे पहुंचे मंदिर
मां चण्डी देवी मंदिर चन्नीपुर समरधीरा चौराहा से करीब 5 किलोमीटर दूर है। यहां ऑटो, बैटरी रिक्शा, टैक्सी के अलावा निजी वाहनों से पहुंचा जा सकता है।

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Open chat
Hello
how can i help you.