दैनिक महाराजगंज न्यूज़ पोर्टल आप सभी देशवाशियो से निवेदन करता है , कोरोना महामारी से बचने के लिए सोशल डिस्टेंस बनाये रखे और लॉकडाउन का पालन करें !
IFRAME SYNC
दैनिक महाराजगंज

पत्रकारों का उत्पीड़न बर्दाश्त नही सरकार इस पर करें पहल

प्रखर पूर्वांचल महराजगंज ब्यूरो चीफ(जगदम्बा जायसवाल)

मीडिया को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहा जाता है। पत्रकार समाज का दर्पण होते हैं, विभिन्न समाचार पत्र के माध्यमों के जरिए दुनिया भर के समाचार हमारे घरों तक पहुंचते हैं चाहे वह समाचार पत्र हो या टेलीविजन और रोड़ियो या इटंरनेट या सोशल मीडिया। समाचार संगठनों मे काम करने वाले पत्रकार देश-दुनिया मे घटने वाली घटनाओ को समाचार के रूप में परिवर्तित कर हम तक पहुँचाते हैं। इसके लिए वे रोज सूचनाओ का संकलन करते हैं और उन्हे समाचार के प्रारूप में ढालकर पेश करते हैं। प्रखर पूर्वांचल मीडिया ब्यूरो चीफ जगदम्बा जायसवाल ने कहा कि पत्रकार समाज का दर्पण होता है। एक अच्छे पत्रकार की पहचान एवं ताकत उसकी कलम होती है।पत्रकार की अपनी मर्यादा एवं सीमा होती है।समाज मे कुछ पत्रकारों के कारण मीडिया बदनाम है जिनको बिना जांचे परखे संस्थान द्वारा आईडी कार्ड मिलने पर अपना निजी स्वार्थ सिद्ध कर प्रेस को बदनाम करने का कार्य करते हैं ।बिना योग्यता के एवं लेखन शैली के किसी को पत्रकार नही बनाया जाना चाहिए।एक पत्रकार समाज में हो रहे घटनाओं एवं अपराध को रोकने में पुलिस प्रशासन की हमेशा मदद करता है।प्रशासन के लोगों को भी पत्रकारों का सम्मान करना चाहिए परन्तु बृजमनगंज थानाध्यक्ष द्वारा पत्रकारों के साथ सौतेले ब्यवहार की निंदा करते हैं जहां सिर्फ चुनिंदा पत्रकारों को पीस कमेटी की बैठक हो अथवा समाधान दिवस ,चोरी का खुलासा, मुकदमा दर्ज मे बुलाया अथवा सूचना दिया जाता है।इस पर महराजगंज पुलिस अधिक्षक एवं जिलाधिकारी संग्यान मे ले।
पत्रकारों को उनका सम्मान मिले यही हमारे पत्रकार साथियों की मांग है।
जर्नलिस्ट कांउसिल आफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुराग सक्सेना ने इन सभी बिंदुओं पर पहल करते हुए कहा कि देश के सभी पत्रकार अपनी एकजुटता दिखाये
देश के सभी पत्रकारों को सरकार द्वारा ही परिचय पत्र मिलना चाहिए फिर चाहे वो श्रमजीवी पत्रकार हो या ग्रामीण क्षेत्र से जुड़ा पत्रकार हो।इससे वास्तव में पत्रकारिता कर रहे लोगों के ही परिचय पत्र जारी हो पायेंगे ।पत्रकारिता की गरिमा को खंडित करनेवाले फर्जी पत्रकारों पर अंकुश लग जायेगा।सरकार उन्हीं लोगों को आईडी कार्ड देगी जिनका आर एन आई रजिस्ट्रेशन होगा।उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि सरकार आर एन आई की तरह ही न्यूज पोर्टल के रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू करें जिससे मीडिया से जुड़े पत्रकार भी निर्भीक होकर पत्रकारिता कर सकें।इस बिषय पर आडिसन टाइम्स के ब्यूरो चीफ ने बताया कि देश में फर्जी पत्रकारों की लम्बी लाइन हैं जिससे यह तय नहीं हो पाता कि फर्जी और असली कौन है।सरकार को संस्थान द्वारा जारी लेटर के आधार पर एक सरकारी आई कार्ड बनाया जाये।जिससे पत्रकार प्रेस एक्ट के दायरे में रहकर कार्य करेंगे।

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Open chat
Hello
how can i help you.