दैनिक महाराजगंज न्यूज़ पोर्टल आप सभी देशवाशियो से निवेदन करता है , कोरोना महामारी से बचने के लिए सोशल डिस्टेंस बनाये रखे और लॉकडाउन का पालन करें !
previous arrow
next arrow
Slider

रोहिन नदी के तट बंध पर पेड़ों का कटान जोरो पर

महराजगंज

पुरंदरपुर पुलिस और वन विभाग की मिलीभगत से सरकारी जमीन के हरे पेड़ दिन दोगुना रात चौगुना कट रहे हैं। वायु प्रदूषण की रोकथाम के लिए पेड़ लगाओ जीवन बचाओ अभियान वन विभाग के लिए दिखावा बन कर रह गया है। जिले में वायु प्रदूषण का सूचकांक पहले से ही खतरनाक स्तर पर चल रहा है। वहीं एक तरफ सरकार प्रतिवर्ष करोड़ो रुपये पौधारोपण पर खर्च कर रही है। परंतु प्रशासन की निष्क्रियता के कारण व वन विभाग की शह पर ही हरे पेड़ों पर दिन दोगुना रात चौगुना आरी व कुल्हाड़ी चलाई जा रही है। मामले के सम्बंध में डीएफओ से लेकर तहसील में तैनात उपजिलाधिकारी व वन रेंजर तक सबसे संपर्क करने का प्रयास किया गया लेकिन विभागीय अधिकारियों के साठ गांठ से मामला ठन्डे बास्ते में डाल दिया गया। जबकि सूत्रों के अनुसार अवैध कटान की सूचना कुछ लोगों द्वारा वन विभाग और स्थानीय पुलिस को फोन पर दी गई, लेकिन पुलिस और वन विभाग के किसी अधिकारी ने मौके पर आना मुनासिब नहीं समझा। पुलिस और वन विभाग की मौन स्वीकृति के चलते दिन निकलने से पहले ही वन माफिया ने अधिकतर पेड़ों का सफाया कर अपने मुकाम तक पहुंचा रहे हैं।

फ्री प्रजाति बताकर पेड़ काटने की दी अनुमति

वन दरोगा द्वारा जिन पेड़ों को काटने की अनुमति दी है उन सभी को फ्री प्रजाति होने को कारण बताया गया है। अक्सर यही देखने में आता है कि अपने बचाव को ध्यान में रखते हुए अधिकारी नियमों के साथ खेल कर शासन और अपने आला अधिकारियों की आंखों में धूल झोंक रहे हैं।

पुरंदरपुर पुलिस अनजान, गश्त पर उठे सवाल

लकड़ी माफियो द्वारा सरकारी जमीन में उगे फ्री प्रजाति की लकड़ियों के कटान के बारे में पुरंदरपुर थाना प्रभारी से जब इस बारे में जानकारी ली गई तो उन्होने कहा कि मामला राजस्व का है लेकिन कोई लेखपाल या क़ानूगो इसका तहरीर नही दिए है तहरीर मिलने पर किसी भी कीमत पर हरे पेड़ों को अवैध तरीके से कटने नहीं दिया जाएगा।जल्द ही मामले की जानकारी लेकर सभी दोषियों के विरुद्ध कठोर कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

Share this:

Abhishek verma

By Abhishek verma

Abhishek kumar Verma Tahshil Riporter (Farenda) 8052856900

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Warning: Copyright Protected.

Open chat
Hello
how can i help you.