महराजगंज

स्वतंत्र राजनीतिक समूह के संयोजक राधारमण पांडे ने ज्ञापन पत्र जिला अधिकारी नवल परासी धर्मेंद्र मिश्रा को सौपा

क्राशर:-ज्ञापन पत्र में दोषी जवानों का तत्काल नौकरी से खारिज और गोली मारने के जुर्म में गिरफ्तारी की मांग

*नेपाल सरकार के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री बने हिरदेश त्रिपाठी ने अपने पहल पर बनवाया केंद्रीय छानबीन समिति

  • बॉर्डर के किनारे लगे सशस्त्र प्रहरी के जवानो के कैंपों को हटाने तथा परिवार को उचित क्षतिपूर्ति देने की मांग

*मृतक अविनाश को शहीद का दर्जा देने की उठी मांग

दैनिक महराजगंज न्यूज़

महराजगंज:-नेपाल भारत के नोमैंसलैंड पिलर संख्या 499/4 बहुआर कला के धोबहा नाला के पास बुधवार कि सुबह बॉर्डर पर नेपाल सशस्त्र के जवानों से की गई फायरिंग में नेपाल के कठहवा निवासी अविनाश भर की मृत्यु हो गई थी। जो अपने पिता की दवा लेनेःबहुआर बाजार आया था।वापस लौटते समय नो मैन लैंड पर सशस्त्र प्रहरी द्वारा गोली चलाई गई। जिसमें कटहवा निवासी अविनाश को गोली लगने से मृत हो गई। मृतक के शव को प्रशासन ने पोस्टमार्टम के बाद उसके पिता बच्चा राजभर को शव ले जाने को कहा तो पिता अपने पुत्र का शव लेने से कल इंकार कर दिया था। आज कठहवा गांव के लोग परिवार सहित जिला प्रशासन नवल परासी के आगे धरना प्रदर्शन किया। और स्वतंत्र राजनीतिक समूह के संयोजक राधारमण पांडे ने ज्ञापन पत्र जिला अधिकारी नवल परासी धर्मेंद्र मिश्रा को सौपा। ज्ञापन पत्र में दोषी जवानों का तत्काल नौकरी से खारिज और गोली मारने के जुर्म में गिरफ्तारी की मांग सहित बॉर्डर के किनारे लगे सशस्त्र प्रहरी के जवानो के कैंपों को हटाने तथा मृतक अविनाश को शहीद का दर्जा देने की मांग की गई तथा परिवार को उचित क्षतिपूर्ति देने की मांग की गई। स्वतंत्र राजनीतिक समूह से नेपाल सरकार के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री बने हिरदेश त्रिपाठी ने अपने पहल पर बनवाया केंद्रीय छानबीन समिति नेपाल के जिला नवल परासी में बुधवार को हुई नेपाल भारत सीमा पर घटना मे सशस्त्र प्रहरी के जवान के गोली से नेपाली युवक अविनाश की मृत्यु हो गई थी। जिसके चलते क्षेत्र में नेपाल सशस्त्र प्रहरी के खिलाफ जनता मरने मारने पर आमादा थी। यह बात जब केंद्र सरकार तक पहुंची तो स्वतंत्र राजनीतिक समूह से मंत्री बने हिरदेश त्रिपाठी ने गृह मंत्रालय में पहल कर गृह मंत्रालय के सह सचिव कृष्ण प्रसाद पंत की अध्यक्षता में 5 सदस्य छानबीन समिति गठन हुआ जो अपनी रिपोर्ट 7 दिन के भीतर सरकार को सौंपेगी और जांच के क्रम में दोषियों के ऊपर कार्यवाही नेपाल के कानून के अनुसार किया जाएगा।

Share this:

dinesh rauniyar

Sub editor (Dainik Maharajganj News) mobile- 9794946039

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: Content is protected !!