दैनिक महाराजगंज न्यूज़ पोर्टल आप सभी देशवाशियो से निवेदन करता है , कोरोना महामारी से बचने के लिए सोशल डिस्टेंस बनाये रखे और लॉकडाउन का पालन करें !
previous arrow
next arrow
Slider

कैच वर्ड -शिष्टाचार मुलाकात
क्रासर-50लाख वित्तविहीन शिक्षकों की स्थिति इस समय प्रवासी मजदूरों से भी खराब

शिक्षा का अल्पीकरण छात्रों और शिक्षकों के हित में नहीं
महराजगंज
वर्तमान सरकार शिक्षक व कर्मचारी विरोधी है।शिक्षक समुदाय शिथिल हुआ तो इस प्रदेश में भी शिक्षा व्यवस्था बिगड़ जाएगी।सरकार द्वारा शिक्षा का अल्पीकरण कर छात्र -छात्राओं और शिक्षकों को अपमानित करने का काम किया जा रहा है।पहले इंटर साइंस में 12पेपर होते थे अब पांच।पहले बोर्ड फीस सौ रुपये थे ,अब पांच सौ और छःसौ रुपये । इस वर्ष शिक्षा मंत्री ने
कोर्स में तीस प्रतिशत की कटौती कर दी। जिससे इन बच्चों को अभिभावक व अध्यापक कम्पटीशन में कहाँ खड़ा करेंगे।कोर्स व प्रश्नपत्रों की कमी अध्यापकों के पेट पर लाठी मारना भी हैं। इस महामारी में भी सरकार बोर्ड फीस में रियायत न कर अभिभावकों का शोषण कर रही हैं। उक्त बातें शिक्षकों को सरकार के रवैए के बारे में जानकारी देते हुए इंटर कालेज लक्ष्मीपुर देउरवा,मौलागंज,सोहास,पनियरा,जड़ार,गंगराई,भैंसा,सौरहा,मंसूरगंज आदि विद्यालयों के शिक्षकों से शिष्टाचार मुलाकात के दौरान शिक्षक विधायक ध्रुव कुमार त्रिपाठी ने कहीं। उन्होंने कहा कि 50लाख वित्तविहीन शिक्षकों की स्थिति इस समय प्रवासी मजदूरों से भी खराब है। मैं मुख्यमंत्री से इन वित्तविहीन
शिक्षकों के घर में भी एक दिया जलाने की मांग कर रहा हूं। सरकार विधानपरिषद की सीट पर अन्य प्रदेशों की भांति शिक्षक संगठनों को तोड़कर अपने प्रत्याशी को विजई बनाने में लगी है। आजादी के सत्तर वर्ष बीत गए,अब इस तरह लोकतंत्र शिक्षा जैसे मौलिक अधिकारों को हासिए पर खड़ा कर उनका सोशण कर रही हैं।लेकिन शिक्षक समुदाय एकजुट है। अपना हित समझता है।आप सभी अहंकारी सरकार के प्रत्याशी का जमानत जब्त करें।शिक्षक और कर्मचारियों के पेंशन बहाली के लिए 2022करो या मरो का वर्ष होगा। इस दौरान शर्मा गुट के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य श्रीराम सिंह, जिलाध्यक्ष अशोक कुमार राय,मंत्री विजय प्रताप सिंह, पूर्व मंत्री दीपचंद त्रिपाठी,सुरेश प्रताप सिंह, युगुल मिश्र,रमेश चंद यादव, प्रेम नारायण मणि, नित्यानंद मणि त्रिपाठी, विजय शंकर पांडेय,एस के शुक्ल आदि शिक्षक मौजूद रहे।

Share this:

Abhishek Tripathi

By Abhishek Tripathi

Founder & Editor Mobile no. 9451307239

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Warning: Copyright Protected.

Open chat
Hello
how can i help you.