WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.27 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.29 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.30 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.31 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
IMG-20220819-WA0003
IMG-20220830-WA0000
महराजगंज

पूर्व मंत्री अमरमणि त्रिपाठी पत्नी संग 13 साल बाद होगे रिहा..

दैनिक महाराजगंज न्यूज़ / महाराजगंज पब्लिक न्यूज़ वेद प्रकाश दुबे प्रदेश विज्ञापन प्रभारी

चर्चित मधुमिता हत्याकांड में उम्रकैद की सजा काट रहे पूर्व मंत्री व उनकी पत्नी

गोरखपुर _ बाहुबली पूर्व मंत्री अमरमणि त्रिपाठी व उनकी पत्नी मधुमणि की रिहाई के आसार प्रबल होते नजर आ रहे हैं यूपी से उनके मुकदमे व दंपत्ति के मेडिकल रिपोर्ट उत्तराखंड भेज दिए गए हैं कवित्री मधुमिता शुक्ला हत्याकांड में उम्र कैद की सजा काट रहे इस दंपत्ति ने बढ़ती उम्र और स्वास्थ्य का हवाला देकर सरकार से रिहाई की गुहार लगाई थी इनके विधायक पुत्र ने भी रिहाई के लिए अर्जी की अपील की थी इस बाबत रिपोर्ट यूपी से उत्तराखंड भेज दी गई है सूत्रों की मानें तो उत्तराखंड से इस दंपति की रिहाई का परवाना निकल सकता है लखनऊ में हुआ मधुमिता शुक्ला हत्याकांड ने राजनैतिक भूचाल ला दिया था इस हत्याकांड में तत्कालीन मंत्री अमरमणि त्रिपाठी आरोपी थे मामला तूल पकड़ा तो इसे सीबीआई के हवाले कर दिया गया हत्या के इस मामले में साजिश रचने का आरोप सिद्ध पाए जाने पर पूर्व मंत्री अमरमणि त्रिपाठी और उनकी पत्नी मधुमणि को उत्तराखंड की कोर्ट ने उम्र कैद की सजा सुनाई थी न्यायालय के निर्णय के बाद कुछ दिनों तक यह दंपति तो उत्तराखंड जेल में ही रहा लेकिन बाद में उनको यूपी के गोरखपुर जेल में शिफ्ट कर दिया गया 4 दिसंबर 2008 को मधुमणि गोरखपुर जेल में आए फिर 13 मार्च 2012 को अमरमणि को भी यहां लाया गया 13 मार्च 2013 को अमरमणि त्रिपाठी को मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया जबकि 27 फरवरी 2013 के पहले ही मधुमणि यहां इलाज के लिए आ चुकी थी

उत्तराखंड सरकार लेगी इस मामले का फैसला

पूर्व मंत्री अमरमणि त्रिपाठी व उनकी पत्नी पर उत्तराखंड सरकार ही फैसला ले सकती है दंपत्ति में यूपी सरकार से रिहाई की गुहार लगाई थी इनके द्वारा बढ़ती उम्र पारिवारिक जिम्मेदारियां और बीमारी का हवाला दिया गया था इनके विधायक बेटे अमरमणि त्रिपाठी ने भी शासन स्तर पर लिखित पैरवी की इस मामले में यूपी सरकार ने रिपोर्ट भी मंगाई लेकिन मामला उत्तराखंड का होने के नाते इसे पड़ोसी राज्य को भेज दिया गया उत्तराखंड सरकार ने मामले को संज्ञान में लेते हुए मुकदमों का स्टेटस मांगा था

वेद प्रकाश दुबे

वेद प्रकाश दुबे प्रदेश विज्ञापन प्रभारी (लखनऊ) 7380436987

Related Articles

Back to top button