WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.27 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.29 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.30 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.31 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
IMG-20220819-WA0003
IMG-20220830-WA0000
देश

जोगीरा सा रा रा रा रा रा रा की आवाज में गूंजा माधवनगर तुरकहिया

विमलेश कुमार नायक (हैप्पी नायक)
तहसील प्रभारी

महाराजगंज जनपद के निचलौल ब्लाक के अंतर्गत ग्राम सभा माधव नगर तुरकहिया में जोगीरा सारारारा…. की आवाज के साथ जब ढोलक और मंजीरे की धुन गली-गली में गूंजती थी तो हर आदमी फगुआ के रंग में रंग जाता था। फगुआ सिर्फ गीत नहीं है बल्कि हमारी परंपरा और विरासत है। एक दौर था जब हर कोई फाल्गुन महीने का इंतजार करता था। वसंत पंचमी के दिन से होलिका का डांढ़ा (लकड़ी का टुकड़ा, जिसके आसपास होलिका सजाई जाती है) लगाते ही युवाओं का अल्हड़पन शुरू हो जाता था। इसके बाद तो दुश्मन को भी दोस्त बनाकर घर-घर फगुआ गाया जाता था। आधुनिकता के साथ-साथ हमारी परंपरा और विरासत गायब होती जा रही है। अब तो न ही वह गीत रहे और न ही उनको गाने वाले। अब तो फगुआ की जगह डीजे और फूहड़ गीतों का शोर बजने लगा है। शहर को तो छोड़ ही दें, बल्कि गांव में भी अब ये परंपरा खत्म हो रही है।

क्या होता है फगुआ

फगुआ दरअसल होली में गाया जाने वाला पारंपरिक गीत है। यह मूलरूप से उत्तर प्रदेश और बिहार में गाए जाने वाले लोकगीत हैं। इन गीतों को लोग टोली बनाकर ढोलक और मंजीरे की धुन पर गाते हैं। होली वाले दिन रंग खेलकर शाम को लोगों की टोली घर-घर जाकर फगुआ गीत गाती थी। तब दरवाजे पर आने वाली इस टोली का घर की महिलाएं स्वागत करती थीं और उनको होली पर बने व्यंजन खिलाती थीं। फगुआ का मुख्य पकवान गुझिया माना जाता है। यूपी बिहार में फगुआ गाए बिना आज भी होली अधूरी मानी जाती है।
पुराने रीति-रिवाजों से दूर होती युवा पीढ़ी
बदलते दौर के साथ होली का मतलब सिर्फ हुड़दंग होता जा रहा है। आज की युवा पीढ़ी तो ये तक नहीं जानती है कि आखिर फगुआ किस चिड़िया का नाम है। आजकल के लोग अपने-अपने घरों में कैद होकर मोबाइल या फिर डीजे पर बजने वाले अश्लील गाने सुनकर ही खुश हैं। युवा पीढ़ी परंपराओं को भूलती जा रही है। लेकिन फगुआ हमारी धरोहर है, होली और फगुआ एक-दूसरे के पूरक हैं, इसलिए इसे सहेजना हर शख्स की जिम्मेदारी और कर्तव्य है।
गायक – गोपाल नायक, रामू खरवार, उमेश, नीरज,पारस,रामकिशन, संजय नायक, अजीत,हैप्पी नायक, दिलीप, पवन, घरभरन ,मोहन
ढोलक बाधक दुर्गेश यादव,सुरेंद्र तिवारी ।
सभी लोगो की तरफ से होली की ढेर सारी शुभकामनाएं।

दैनिक महराजगंज न्यूज

अभिषेक त्रिपाठी

Founder & Editor Mobile no. 9451307239 Email: Support@dainikmaharajganj.in

Related Articles

Back to top button