WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.27 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.29 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.30 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.31 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
IMG-20220819-WA0003
IMG-20220830-WA0000
अन्य खबरदेश

15 अगस्त 1947 मे देश क्या मनाया गया और क्या लागू हुआ: इतिहास के पन्नों मे है पूरा लेख

15 अगस्त 1947 का दिन हिंदुस्तान के लिए सबसे महत्वपूर्ण दिन था, क्योंकि इस दिन अंग्रेज सत्ता से भारत आजाद हो गया था। देश खुशियां मना रहा था, लेकिन इन खुशियों के बीच दिल दहला देने वाले नजारे भी देखने को मिल रहे थे। असल में हिंदुस्तान को आजादी की खुशियां बंटवारे के दर्द के साथ ही मिली थी। भारत और पाकिस्तान दो हिस्सों में बंट गए थे। ऐसे में दोनों मुल्कों में काफी अफरा-तफरी मची। लाखों लोगों को अपना वतन और अपना घर-बार बंटवारे की वजह से गंवाना पड़ा। असल में बंटवारा हिंसक रूप ले चुका था। ऐसे में बड़ी संख्या में लोग सिर पर पोटली लिए, नंगे पांव और फटेहाल दोनों मुल्कों में अपने वजूद की तलाश में निकल पड़े। इस बंटवारे को स्वतंत्र भारत के इतिहास का काला पन्ना कहा जाता है। अपने ही मुल्क के बंटवारे में लोग कैसे बेघर हो गए और दर-दर की ठोकरें खाने पर मजबूर हो गए, ये तस्वीर उस बंटवारे की दर्दनाक सच्चाई बयां करती है। 

प्रतिवर्ष इस दिन भारत के प्रधानमंत्री लाल किले की प्राचीर से देश को सम्बोधित करते हैं। १५ अगस्त १९४७ के दिन भारत के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने, दिल्ली में लाल किले के लाहौरी गेट के ऊपर, भारतीय राष्ट्रीय ध्वज फहराया था।
महात्मा गाँधी के नेतृत्व में भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में लोगों ने काफी हद तक अहिंसक प्रतिरोध और सविनय अवज्ञा आंदोलनों में हिस्सा लिया। स्वतंत्रता के बाद ब्रिटिश भारत को धार्मिक आधार पर विभाजित किया गया, जिसमें भारत और पाकिस्तान का उदय हुआ। विभाजन के बाद दोनों देशों में हिंसक दंगे भड़क गए और सांप्रदायिक हिंसा की अनेक घटनाएं हुईं। विभाजन के कारण मनुष्य जाति के इतिहास में इतनी ज्यादा संख्या में लोगों का विस्थापन कभी नहीं हुआ। यह संख्या तकरीबन 1.45 करोड़ थी। भारत की जनगणना 1951 के अनुसार विभाजन के एकदम बाद 72,26,000 मुसलमान भारत छोड़कर पाकिस्तान गये और 72,49,000 हिन्दू और सिख पाकिस्तान छोड़कर भारत आए।

इस दिन को झंडा फहराने के समारोह, परेड और सांस्कृतिक आयोजनों के साथ पूरे भारत में मनाया जाता है। भारतीय इस दिन अपनी पोशाक, सामान, घरों और वाहनों पर राष्ट्रीय ध्वज प्रदर्शित कर इस उत्सव को मनाते हैं।

15 अगस्त 1947 के दिन का कार्यक्रम

सुबह 08.30 बजे – गवर्नमेंट हाउस पर गवर्नर जनरल और मंत्रियों का शपथ समारोह

सुबह 09.40 बजे – संवैधानिक सभा की और मंत्रियों का प्रस्थान

सुबह 09.50 बजे – संवैधानिक सभा तक स्टेट ड्राइव

सुबह 09.55 बजे – गवर्नर जनरल को शाही सलाम

सुबह 10.30 बजे – संवैधानिक सभा में राष्ट्रीय ध्वज को फहराना

सुबह 10.35 बजे – गवर्नमेंट हाउस तक स्टेट ड्राइव

सायं 06.00 बजे – इंडिया गेट पर झंडा रोहण समारोह

सायं 07.00 बजे – प्रकाश
सायं 07.45 बजे – आतिश बाज़ी प्रदर्शन

सायं 08.45 बजे – गवर्नमेंट हाउस पर आधिकारिक रात्रि भोज (डिनर)

रात्रि 10.15 बजे – गवर्नमेंट हाउस पर स्वागत समारोह

जयप्रकाश वर्मा
प्रभारी दैनिक महराजगंज न्यूज

जयप्रकाश वर्मा

प्रदेश प्रभारी-उत्तर प्रदेश 9415783188

Related Articles

Back to top button