WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.27 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.29 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.30 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.31 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
IMG-20220819-WA0003
IMG-20220830-WA0000
महराजगंज

रामनवमी के पहले दिन जयकारे से गूंजा सिहाभार भगवती मंदिर

क्राशर:-सिहाभार भगवती सबकी मुरादें पूरी करती हैं मां भगवती

दैनिक महराजगंज न्यूज़
महराजगंज:-नौतनवा तहसील क्षेत्र अंतर्गत मधवलिया रेंज के बसौली से सटे एक किमी दूरी पर सिहाभार गांव में भगवती देवी मंदिर में नवरात्रि के पहले दिन भक्तो की भारी भीड़ दिखाई दी। इस मौके श्रद्धालुओं ने मंदिर में पूजा अर्चना कर मन्नते मांगी। मंदिर के आस्था के विषय में पुजारी छोटई ने बताया की सदियों पहले डगरुपुर क्षेत्र के सिहाभार गांव घना जंगल था। जंगल में एक घमंडी अहंकारी अंग्रेज शासक महल बनाकर रहता था। इसी जंगल मे एक दिन अंंग्रेज शासक देवी स्थान के सामने नील की फैक्ट्री लगाने का निर्णय लिया उसी रात को मां भगवती ने स्वप्न में उसको देवी स्थान के सामने नील की फैक्ट्री लगाने से मना किया। लेकिन उसने भगवती की बातों को दरकिनार करते हुये नील की फैक्ट्री का निर्माण कराने लगा। यह देख मां भगवती हिरन रुप धारण कर नील की फसल को नष्ट करने लगी। फसल का नुकसान देख राजा एक रात बंदूक लेकर झाडियों में छिप गया। देर रात मां भगवती हिरन रुप धारण कर नील की फसल को चरने लगी यह देख राजा ने हिरन पर गोली चला दिया जो हिरन रुपी मां भगवती को जा लगा गोली लगते ही मां भगवती देवी स्थान के पास पत्थर रुप धारण कर जमीन मे धस गयीं। उसके बाद से अंग्रेज शासक का सर्वनाश हो गया। यह खबर धीरे धीरे लोगो तक पहुंची। उसी समय से लोगो की आस्था देवी मां के प्रति जागृति हुई और आस्था का केंद्र बन गया। इस मंदिर परिसर में वर्ष भर ग्रामीण मुंडन कार्यक्रम, मनौती पर बलि, कथा, कीर्तन का कार्यक्रम होता रहता है।

Related Articles

Back to top button