WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.27 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.29 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.30 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.31 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
IMG-20220819-WA0003
IMG-20220830-WA0000
अन्य खबर

न्याय नहीं मिलने पर परिवार ने राष्ट्रपति भारत सरकार से मांगी इच्छामृत्यु

नेबुआ नौरंगिया के पिपरा बुजुर्ग की रहने वाली सुशीला ने किराएदार पर जमीन कब्जा करने का आरोप लगाया है। यह परिवार अपने ही घर और जमीन से बेदखल हो गया है। उनकी जमीन पर किराएदार ने कब्जा जमा लिया है। जिसको लेकर पीड़ित परिवार पुलिस से लेकर प्रशासनिक दफ्तरों का चक्कर लगाते थक चुका है। पीड़ित ने परिवार सहित इच्छा मृत्यु की मांग को लेकर राष्ट्रपति को पत्र भेज कर मांग की है।एक परिवार ने महामहिम राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्म को रजिस्ट्री भेजकर इच्छा मृत्यु की मांग की है। पीड़िता सुशीला ने बताया की सरकारी न्याय सिस्टम प्रणाली से इतनी तंग आ चुकी है कि इच्छा मृत्यु की मांग तक कर दी। राष्ट्रपति को रजिस्ट्री के माध्यम शिकायती पत्र भेज अपनी पीड़ा व्यक्त की है। उन्होंने बताया कि मेरे पति गांगा की 1987 में मौत हो गई थी। जिसके बाद वह बेसहारा हो गई, उसकी की भूमि पर बने मकान मे राजमन छपरा निवासी राम अधार झोलाछाप चिकित्सक का काम करता था। जो उसे अपने प्रेम जला में फंसाकर उससे शादी करने का झांसा देकर काफी दिनों तक शारीरिक संबंध बनाता रहा। जिससे एक लड़की भी पैदा हुई। दुकानदार से किराया मांगने पर हुई जानकारी कोर्ट मैरिज करने के नाम पर एक सादे स्टाम्प पर महिला से अंगूठा लगवाकर घर से निकाल दिया। इसकी जानकारी तब हुई जब एक दुकानदार बृजेश रौनियार से तीन वर्ष पूर्व किराया मांगी तो उसने कहा की जमीन अब आपकी की नहीं रही ये जमीन राम अधार ने आपसे स्टाम्प के माध्यम से खरीद लिया है। अगर मेरा घर जमीन पर पुलिस और प्रशासनिक सिस्टम कब्जा नहीं दिला सकता तो हमें इच्छा मृत्यु की अनुमति ही दे दीजिए।दूसरा पक्ष बोला- 25 साल पहले लिया था बैनामा इस मामले में दूसरे पक्ष का कहना है कि 25 साल पहले उन्होंने जमीन बैनामा लिया था। महिला के बेटे के द्वारा थाने में तहरीर दी गयी थी। जिस पर मैंने सारे कागज उपलब्ध कराए। अब फिर महिला अनावश्यक दबाव बनाने के लिए बेबुनियाद आरोप लगा रही।

वेद प्रकाश दुबे

वेद प्रकाश दुबे प्रदेश विज्ञापन प्रभारी (लखनऊ) 7380436987

Related Articles

Back to top button