WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.27 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.28 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.29 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.30 AM
WhatsApp Image 2022-08-17 at 6.06.31 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM (1)
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.36 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
WhatsApp Image 2022-08-29 at 11.34.35 AM
IMG-20220819-WA0003
IMG-20220830-WA0000
देश

‘द कश्मीर फाइल्स’ ने ध्वस्त किए सभी रिकार्ड, आया 325% का उछाल, कांग्रेस ने की विवादित टिप्पणी

फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ नए रिकॉर्ड्स और इतिहास बना रही है. संभवतः बॉलीवुड की ये पहली फिल्म है जिसके बिजनेस में 3 दिन में 325% का उछाल देखने को मिला है. 11 मार्च को रिलीज हुई फिल्म के पहले दिन का कलेक्शन 3.5 करोड़ के आसपास था, जो दूसरे दिन 8.5 करोड़ और तीसरे दिन 15.10 करोड़ पर पहुंच गया. पहले दिन फिल्म को पूरे देश में महज 600 स्क्रिन ही मिली थीं. लेकिन, रविवार तक फिल्म के लिए दर्शकों के जुनून को देखते हुए स्क्रीन संख्या 600 से बढ़ाकर 2000 कर दी गईं. हर शहर में फिल्म के शो भी दोगुने से ज्यादा किए गए. लगभग 12 करोड़ की लागत में बिना किसी बड़े स्टार के ‘द कश्मीर फाइल्स’ ने 27 करोड़ से ज्यादा का बिजनेस कर लिया है.

इस फिल्म के निर्माता अभिषेक अग्रवाल हैं. विवेक अग्निहोत्री के निर्देशन में कश्मीरी हिन्दुओं के नरसंहार और पलायन पर बनी यह फिल्म 11 मार्च को रिलीज हुई है और अनुपम खेर, पल्लवी जोशी एवं मिथुन चक्रवर्ती ने इसमें अभिनय किया है. फिल्म को क्रिटिक्स और ऑडियंस सबकी तारीफ मिल रही है. सोशल मीडिया पर भी इस फिल्म की खूब चर्चा हो रही है.

वहीं फ़िल्म को लेकर केरल कांग्रेस ने विवादित ट्वीट किया कि जम्मू-कश्मीर में मारे गए पंडितों से ज्यादा संख्या तो मुस्लिमों की रही है. ट्वीट वायरल होते ही सब तरफ से लोगों ने कांग्रेस को घेरना शुरू कर दिया था. केरल कांग्रेस ने ट्वीट कर कहा कश्मीरी पंडितों के बारे में तथ्य, वह आतंकी ही थे जिन्होंने पंडितों को निशाना बनाया. पिछले 17 सालों (1990-2007) में हुए आतंकी हमलों में 399 पंडित मारे गए हैं. इस अवधि में आतंकवादियों की ओर से मारे गए मुसलमानों की संख्या 15,000 है. बाद में इसे डिलीट कर दिया गया.

मनीष यादव

जिला संवाददाता- महाराजगंज 6394617487

Related Articles

Back to top button